बुधवार, 18 मई 2022

मोहम्मद पैगंबर हिंदू सनातनी थे ।

मुहम्मद स्वयं हिन्दू ही जन्मे थे, होती थी महादेव की पूजा, इसके तथ्य भी हैं मौजूद
इराक का एक पुस्तक है जिसे इराकी सरकार ने खुद छपवाया था। इस किताब में 622 ई से पहले के अरब जगत का जिक्र है। आपको बता दें कि ईस्लाम धर्म की स्थापना इसी साल हुई थी। किताब में बताया गया है कि मक्का में पहले शिवजी का एक विशाल मंदिर था जिसके अंदर एक शिवलिंग थी जो आज भी मक्का के काबा में एक काले पत्थर के रूप में मौजूद है। पुस्तक में लिखा है कि मंदिर में कविता पाठ और भजन हुआ करता था।
प्राचीन अरबी काव्य संग्रह गंथ ‘सेअरूल-ओकुल’ के 257वें पृष्ठ पर मोहम्मद से 2300 वर्ष पूर्व एवं ईसा मसीह से 1800 वर्ष पूर्व पैदा हुए लबी-बिन-ए-अरव्तब-बिन-ए-तुरफा ने अपनी सुप्रसिद्ध कविता में भारत भूमि एवं वेदों को जो सम्मान दिया है, वह इस प्रकार है-
“अया मुबारेकल अरज मुशैये नोंहा मिनार हिंदे।
व अरादकल्लाह मज्जोनज्जे जिकरतुन।1।
वह लवज्जलीयतुन ऐनाने सहबी अरवे अतुन जिकरा।
वहाजेही योनज्जेलुर्ररसूल मिनल हिंदतुन।2।
यकूलूनल्लाहः या अहलल अरज आलमीन फुल्लहुम।
फत्तेबेऊ जिकरतुल वेद हुक्कुन मालन योनज्वेलतुन।3।
वहोबा आलमुस्साम वल यजुरमिनल्लाहे तनजीलन।
फऐ नोमा या अरवीयो मुत्तवअन योवसीरीयोनजातुन।4।
जइसनैन हुमारिक अतर नासेहीन का-अ-खुबातुन।
व असनात अलाऊढ़न व होवा मश-ए-रतुन।5।”
अर्थात-.
(1) हे भारत की पुण्य भूमि (मिनार हिंदे) तू धन्य है, क्योंकि ईश्वर ने अपने ज्ञान के लिए तुझ को चुना।
(2) वह ईश्वर का ज्ञान प्रकाश, जो चार प्रकाश स्तम्भों के सदृश्य सम्पूर्ण जगत् को प्रकाशित करता है, यह भारतवर्ष (हिंद तुन) में ऋषियों द्वारा चार रूप में प्रकट हुआ।
(3) और परमात्मा समस्त संसार के मनुष्यों को आज्ञा देता है कि वेद, जो मेरे ज्ञान है, इनकेअनुसार आचरण करो।(4) वह ज्ञान के भण्डार साम और यजुर है, जो ईश्वर ने प्रदान किये। इसलिए, हे मेरे भाइयों! इनको मानो, क्योंकि ये हमें मोक्ष का मार्ग बताते है।
(5) और दो उनमें से रिक्, अतर (ऋग्वेद, अथर्ववेद) जो हमें भ्रातृत्व की शिक्षा देते है, और जो इनकी शरण में आ गया, वह कभी अन्धकार को प्राप्त नहीं होता।
इस्लाम मजहब के प्रवर्तक मोहम्मद स्वयं भी वैदिक परिवार में हिन्दू के रूप में जन्में थे, और जब उन्होंने अपने हिन्दू परिवार की परम्परा और वंश से संबंध तोड़ने और स्वयं को पैगम्बर घोषित करना निश्चित किया, तब संयुक्त हिन्दू परिवार छिन्न-भिन्न हो गया
और काबा में स्थित महाकाय शिवलिंग (संगेअस्वद) के रक्षार्थ हुए युद्ध में पैगम्बर मोहम्मद के चाचा उमर-बिन-ए-हश्शाम को भी अपने प्राण गंवाने पड़े।
उमर-बिन-ए-हश्शाम का अरब में एवं केन्द्र काबा (मक्का) में इतना अधिक सम्मान होता था कि सम्पूर्ण अरबी समाज, जो कि भगवान शिव के भक्त थे एवं वेदों के उत्सुक गायक तथा हिन्दू देवी-देवताओं के अनन्य उपासक थे, उन्हें अबुल हाकम अर्थात ‘ज्ञान का पिता’ कहते थे। बाद में मोहम्मद के नये सम्प्रदाय ने उन्हें ईर्ष्यावश अबुलजिहाल ‘अज्ञान का पिता’ कहकर उनकी निन्दा की।
जब मोहम्मद ने मक्का पर आक्रमण किया, उस समय वहाँ बृहस्पति, मंगल, अश्विनीकुमार, गरूड़, नृसिंह की मूर्तियाँ प्रतिष्ठित थी। साथ ही एक मूर्ति वहाँ विश्वविजेता महाराजा बलि की भी थी, और दानी होने की प्रसिद्धि से उसका एक हाथ सोने का बना था।
‘Holul’ के नाम से अभिहित यह मूर्ति वहां इब्राहम और इस्माइल की मूर्त्तियों के बराबर रखी थी। मोहम्मद ने उन सब मूर्त्तियों को तोड़कर वहां बने कुएं में फेंक दिया, किन्तु तोड़े गये शिवलिंग का एक टुकडा आज भी काबा में सम्मानपूर्वक न केवल प्रतिष्ठित है, वरन् हज करने जाने वाले मुसलमान उस काले (अश्वेत) प्रस्तर खण्ड अर्थात ‘संगे अस्वद’ को आदर मान देते हुए चूमते है।
जबकि इस्लाम में मूर्ति पूजा या अल्लाह के अलावा किसी की भी स्तुति हराम है
प्राचीन अरबों ने सिन्ध को सिन्ध ही कहा तथा भारत वर्ष के अन्य प्रदेशों को हिन्द निश्चित किया। सिन्ध से हिन्द होने की बात बहुत ही अवैज्ञानिक है। इस्लाम मत के प्रवर्तक मोहम्मद के पैदा होने से 2300 वर्ष पूर्व यानि लगभग 1800 ईश्वी पूर्व भी अरब में हिंद एवं हिंदू शब्द का व्यवहार ज्यों कात्यों आज ही के अर्थ में प्रयुक्त होता था।
अरब की प्राचीन समृद्ध संस्कृति वैदिक थी तथा उस समय ज्ञान-विज्ञान, कला-कौशल, धर्म-संस्कृति आदि में भारत (हिंद) के साथ उसके प्रगाढ़ संबंध थे। हिंद नाम अरबों को इतना प्यारा लगा कि उन्होंने उस देश के नाम पर अपनी स्त्रियों एवं बच्चों के नाम भी हिंद पर रखे।
अरबी काव्य संग्रह ग्रंथ ‘ से अरूल-ओकुल’ के 253वें पृष्ठ पर हजरत मोहम्मद के चाचा उमर-बिन-ए-हश्शाम की कविता है जिसमें उन्होंने हिन्दे यौमन एवं गबुल हिन्दू का प्रयोग बड़े आदर से किया है। ‘उमर-बिन-ए-हश्शाम’ की कविता नई दिल्ली स्थित मन्दिर मार्ग पर श्री लक्ष्मीनारायण मन्दिर (बिड़लामन्दिर) की वाटिका में यज्ञशाला के लाल पत्थर के स्तम्भ (खम्बे) पर कालीस्याही से लिखी हुई है, जो इस प्रकार है –
” कफविनक जिकरा मिन उलुमिन तब असेक ।
कलुवन अमातातुल हवा व तजक्करू ।1।
न तज खेरोहा उड़न एललवदए लिलवरा ।
वलुकएने जातल्लाहे औम असेरू ।2।
व अहालोलहा अजहू अरानीमन महादेव ओ ।
मनोजेल इलमुद्दीन मीनहुम व सयत्तरू ।3।
व सहबी वे याम फीम कामिल हिन्दे यौमन ।
व यकुलून न लातहजन फइन्नक तवज्जरू ।4।
मअस्सयरे अरव्लाकन हसनन कुल्लहूम ।
नजुमुन अजा अत सुम्मा गबुल हिन्दू ।5।
अर्थात् –
(1) वह मनुष्य, जिसने सारा जीवन पाप व अधर्म में बिताया हो, काम, क्रोध में अपने यौवन को नष्ट किया हो।
(2) यदि अन्त में उसको पश्चाताप हो, और भलाई की ओर लौटना चाहे, तो क्या उसका कल्याण हो सकता है ?
(3) एक बार भी सच्चे हृदय से वह महादेव जी की पूजा करे, तो धर्म-मार्ग में उच्च से उच्चपद को पा सकता है।
(4) हे प्रभु ! मेरा समस्त जीवन लेकर केवल एक दिन भारत (हिंद) के निवास का दे दो, क्योंकि वहां पहुंचकर मनुष्य जीवन-मुक्त हो जाता है।
(5) वहां की यात्रा से सारे शुभ कर्मो की प्राप्ति होती है, और आदर्शगुरूजनों (गबुल हिन्दू) का सत्संग मिलता है।
साभार पोस्ट:

रविवार, 15 मई 2022

बाँसी (उ.प.) का श्रीनेत राजवंश का इतिहास


(सूर्यवंश : अयोध्या से बाँसी तक)
अयोध्या के सूर्यवंशी-नरेशों की गौरवशाली परम्परा में 130वें शासक महाराज सुमित्र थे। महाराज सुमित्र की 57वीं एवं अयोध्या के प्रथम सम्राट् वैवस्वत मनु की 186वीं पीढ़ी में महाराज शंखदेव पैदा हुए। महाराज शंखदेव के ज्येष्ठ पुत्र महाराज अजबाहुदेव पिता के पश्चात् राज्य के उत्तराधिकारी हुए और कनिष्ठ पुत्र महाराज दीर्घबाहुदेव के पुत्र महाराज बृजभानुदेव उपाख्य वसिष्ठसेन ने 332 ई. पू. में अयोध्या के सुदूर उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में अचिरावती नदी के अंचल में रुद्रपुर नामक राज्य की स्थापना करने के साथ ही 'श्रीनेत' पदवी धारण की। इस सम्बन्ध एक प्राचीन श्लोक प्रचलित है-
तस्य पुत्रो दयासिन्धु बृजभानुः प्रतापवान्।
श्रीनेत पदवीकेन लब्धा भुमिरनुत्तमा।।
इस ऐतिहासिक सन्दर्भ का उल्लेख करते हुए महामहिमोपाध्याय डॉ. हीरालाल पाण्डेय लिखते हैं-
अयोध्याया नृपः ख्यातः सुमित्र इति नामभाक्।
पौरुषे सप्तपञ्चासे शङ्खदेवो नृपोभवत्।।
शङ्खदेवस्य पुत्रौ द्वौ विख्यातौ क्षितिमण्डले।
अजबाहुः नृपः श्रेष्ठ दीर्घबाहुः प्रतापवान्।।
दीर्घबाहुः सुतः श्रीमान् बृजभानुः नृपोत्तमः।
स एव हि वसिष्ठोऽपि प्रख्यां विन्दति भारते।।
येन रुद्रपुरं नाम राज्यं संस्थापितं महत्।
श्रीनेत पदवीकेन वंशो विस्तारतां गतः।।
'श्रीनेत' पदवी की व्याख्या करते हुए डॉ. राजबली पाण्डेय लिखते हैं- 'श्रीनेत विरुद (उपाधि) की व्याख्या दो प्रकार से हो सकती है : (1) श्री + न + इति = श्रीनेति (अपभ्रंश श्रीनेत) अर्थात् वह क्षत्रिय वंश, जिसकी श्री (समृद्धि और यश) का अन्त न हो और (2) श्री + नेतृ = श्रीनेतृ अर्थात् शोभायमान नेता अथवा सुन्दर और कुशल नेतृत्व करनेवाला क्षत्रिय वंश।'[1] श्रीनेत पदवी धारण करनेवाले महाराज बृजभानुदेव के वंशज कालान्तर में श्रीनेत क्षत्रिय के नाम से विख्यात हुए।
महाराज बृजभानुदेव उपाख्य वसिष्ठसेन द्वारा स्थापित रुद्रपुर राज्य कालान्तर में तीन भागों में विभक्त होकर सतासी, उनवल और बाँसी के नाम से प्रसिद्ध हुआ। वर्तमान में बाँसी का श्रीनेत राजवंश सर्वाधिक उन्नतिशील है। रुद्रपुर से बाँसी तक की राजावली[2] निम्नांकित है-
187. महाराज दीर्घबाहुदेव 360-332 ई. पू.
188. महाराज बृजभानुदेव (वसिष्ठसेन) 332-312 ई. पू.
189. महाराज हरनाथदेव 312-293 ई. पू.
190. महाराज योषदेव 293-273 ई. पू.
191. महाराज धर्मशीलदेव 273-255 ई. पू.
192. महाराज सुन्दरलालदेव 255-235 ई. पू.
193. महाराज अग्निवर्णदेव 235-216 ई. पू.
194. महाराज महावर्णदेव 216-198 ई. पू.
195. महाराज वीरपुरुषदेव 198-180 ई. पू.
196. महाराज देवजित्देव 180-162 ई. पू.
197. महाराज बालर्षिदेव 162-144 ई. पू.
198. महाराज महिपालदेव 144-125 ई. पू.
199. महाराज भद्ररणदेव 125-105 ई. पू.
200. महाराज भानुदेव 105-85 ई. पू.
201. महाराज विष्णुदेव 85-67 ई. पू.
202. महाराज परुषदेव 67-49 ई. पू.
203. महाराज वनदेव 49-31 ई. पू.
204. महाराज प्रकटदेव 31-13 ई. पू.
205. महाराज शिववर्तदेव 13 ई. पू.-05 ई.
206. महाराज वानदेव 05-23 ई.
207. महाराज स्वर्णचित्रदेव 23-42 ई.
208. महाराज मर्दराजदेव 42-62 ई.
209. महाराज कृतदेव 62-81 ई.
210. महाराज रणजीतदेव 81-100 ई.
211. महाराज शतयुद्धदेव 100-119 ई.
212. महाराज शकुनदेव 119-138 ई.
213. महाराज अमरजीतदेव 138-158 ई.
214. महाराज बृजभानुदेव द्वितीय 158-178 ई.
215. महाराज सत्यदेव 178-198 ई.
216. महाराज देवमणिदेव 198-218 ई.
217. महाराज रामदेव 218-236 ई.
218. महाराज सुखमणिदेव 236-254 ई.
219. महाराज महामणिदेव 254-274 ई.
220. महाराज विजयदेव 274-294 ई.
221. महाराज कर्णमणिदेव 294-314 ई.
222. महाराज सिद्धमणिदेव 314-334 ई.
223. महाराज कृष्णमणिदेव 334-356 ई.
224. महाराज मणिदीपदेव 356-379 ई.
225. महाराज अग्रसेनदेव 379-399 ई.
226. महाराज सुखवृत्तदेव 399-419 ई.
227. महाराज कृपिलदेव 419-439 ई.
228. महाराज देवमणि 439-456 ई.
229.  महाराज यशमणिदेव 456-479 ई.
230. महाराज शैलमणिदेव 479-499 ई.
231. महाराज सावन्तदेव 499-519 ई.
232. महाराज सर्वदेव 519-539 ई.
233. महाराज गंगदेव 539-562 ई.
234. महाराज महिमददेव 562-585 ई.
235. महाराज राजदेव 585-608 ई.
236. महाराज जयदेव 608-631 ई.
237. महाराज श्यामदेव 631-656 ई.
238. महाराज लवंगदेव 656-685 ई.
239. महाराज महिलोचन सिंह 685-710 ई.
240. महाराज कामदेव सिंह 710-730 ई.
241. महाराज मान सिंह प्रथम 730-750 ई.
242. महाराज धीर सिंह 750-768 ई.
243. महाराज विजयपाल सिंह 768-788 ई.
244. महाराज हमीर सिंह 788-808 ई.
245. महाराज प्रेम सिंह 808-828 ई.
246. महाराज मधुवर्ण सिंह 828-847 ई.
247. महाराज बिन्दुपाल सिंह 847-865 ई.
248. महाराज मान सिंह द्वितीय 865-883 ई.
249. महाराज बालपति सिंह 883-901 ई.
250. महाराज भद्र सिंह प्रथम 901-921 ई.
251. महाराज उदितवर्ण सिंह 921-941 ई.
252. महाराज राम सिंह 941-961 ई.
253. महाराज भद्र सिंह द्वितीय 961-979 ई.
254. महाराज मान सिंह तृतीय 979-998 ई.
255. महाराज कान्ध सिंह 998-1018 ई.
256. महाराज चतुर्भुज सिंह 1018-1038 ई.
257. महाराज भोज सिंह 1038-1058 ई.
258. महाराज भगवन्त सिंह प्रथम 1058-1076 ई.
259. राजा जय सिंह प्रथम 1076-1094 ई.
260. राजा प्रताप सिंह 1094-1114 ई.
261. राजा महिपति सिंह प्रथम 1114-1134 ई.
262. राजा भगवन्त सिंह द्वितीय 1134-1153 ई.
263. राजा मकरन्द सिंह 1153-1172 ई.
264. राजा मूरत सिंह 1172-1192 ई.
265. राजा सूरत सिंह 1192-1210 ई.
266. राजा मदन सिंह 1210-1225 ई.
267. राजा आनन्द सिंह 1225-1240 ई.
268. राजा अनन्त सिंह 1240-1255 ई.
269. राजा गोपाल सिंह 1255-1270 ई.
270. राजा वसन्त सिंह 1270-1285 ई.
271. राजा देव सिंह 1285-1300 ई.
272. राजा उदित सिंह 1300-1318 ई.
273. राजा अमर सिंह 1318-1333 ई.
274. राजा विक्रम सिंह 1333-1348 ई.
275. राजा महिपति सिंह द्वितीय 1348-1364 ई.
276. राजा उदय सिंह 1364-1382 ई.
277. राजा जय सिंह द्वितीय 1382-1400 ई.
278. राजा चन्द्रवर्ण सिंह 1400-1415 ई.
279. राजा लक्ष्मण सिंह 1415-1430 ई.
280. राजा राय सिंह 1430-1446 ई.
281. राजा अनुस्वार सिंह 1446-1456 ई.
282. राजा राघव सिंह 1456-1461 ई.
283. राजा माधव सिंह 1461-1471 ई.
284. राजा वंशदेव सिंह 1471-1484 ई.
285. राजा रतनसेन प्रथम 1484-1514 ई.
286. राजा तेज सिंह प्रथम 1514-1560 ई.
287. राजा संग्राम सिंह 1560-1583 ई.
288. राजा शक्ति सिंह 1583-1611 ई.
289. राजा रामप्रताप सिंह 1611-1649 ई.
290. राजा गजेन्द्र सिंह 1649-1678 ई.
291. राजा राम सिंह द्वितीय 1678-1716 ई.
292. राजा माधव सिंह द्वितीय 1716-1732 ई.
293. राजा तेज सिंह द्वितीय 1732-1743 ई.
294. राजा रणजीत सिंह 1743-1748 ई.
295. राजा बहादुर सिंह 1748-1777 ई.
296. राजा सर्वजीत सिंह 1777-1808 ई.
297. रानी रणजीत कुँवरि 1808-1813 ई.
298. राजा श्रीप्रकाश सिंह 1813-1840 ई.
299. राजा महिपति सिंह तृतीय 1840-1863 ई.
300. राजा बहादुर महेन्द्र सिंह 1863-1868 ई.
301. राजा बहादुर राम सिंह तृतीय 1868-1913 ई.
302. राजा बहादुर रतनसेन सिंह तृतीय 1913-1918 ई.
303. राजा बहादुर पशुपतिप्रताप सिंह 1918-1980 ई.
304. राजा बहादुर रुद्रप्रताप सिंह 1980-2018 ई.
305. राजा बहादुर जयप्रताप सिंह 2018 ई. से अद्यतन 
306. युवराज अधिराजप्रताप सिंह एवं राजकुमार अभयप्रताप सिंह। 
वस्तुतः अयोध्या के प्रतापी सूर्यवंशी सम्राटों की परम्परा में सम्राट् कुश की वंश-वेलि से निष्पन्न हुआ श्रीनेत राजवंश अपनी श्रेष्ठता और स्वतन्त्रता के कारण जगद्विख्यात है। सरयू और अचिरावती के मध्य की उर्वरा भूमि सतासी, बाँसी और उनवल के श्रीनेत राजवंश की गौरवगाथा से अलंकृत है। सतासी-नरेश राजा मंगल सिंह ने नाथपन्थ के आदिगुरु गोरखनाथ जी की समाधि के दक्षिण में एक छोटा-सा क़स्बा बसाया और उसका नाम गोरखपुर रखा। एक महल भी यहीं बना और सतासी राज्य की राजधानी उठकर यहीं चली आयी। राजा राय सिंह के समय में गुरु नानकदेव गोरखपुर आये थे और उन्होंने राजा राय सिंह का आतिथ्य ग्रहण किया था।श्रीनेत राजवंश अपनी स्वातन्त्र्यव्रती चेतना के कारण मेवाड़ के सिसोदिया राजवंश के समतुल्य है। डॉ. राजबली पाण्डेय लिखते हैं- 'मुग़ल कई बार के आक्रमण से भी श्रीनेतों का विनाश नहीं कर सके और न तो उनसे अपनी अधीनता स्वीकार करा सके। सतासी के राजाओं का दिल्ली दरबार में जाना किसी भी प्रमाण से सिद्ध नहीं होता है। राजस्थान के इतिहास में जिस प्रकार चित्तौड़ के राणावंश (सिसोदिया) ने मुग़लों के सामने शिर नहीं झुकाया, उसी प्रकार गोरखपुर जनपद में सतासी के श्रीनेतों ने भी मुग़लों के सामने कभी शिर नहीं टेका। जनपद में इनके आदर का यह एक बहुत बड़ा कारण था।'
बाँसी-नरेश राजा बहादुर पशुपतिप्रताप सिंह हिन्दी, संस्कृत, अंग्रेज़ी, फ़ारसी, अरबी आदि भाषाओं के प्रकाण्ड पण्डित थे। उनकी बहुमुखी प्रतिभा के कारण लोग उन्हें चलता-फिरता पुस्तकालय कहते थे। राजा पशुपतिप्रताप सिंह के पुत्र राजा बहादुर रुद्रप्रताप सिंह भारतीय सैन्य सेवा में रहते हुए प्राणप्रण से राष्ट्ररक्षा में संलग्न रहे हैं। राजा बहादुर रुद्रप्रताप सिंह का 2018 ई. में नयी दिल्ली में स्वर्गवास हुआ। वर्तमान राजा बहादुर श्री जयप्रताप सिंह बाँसी विधानसभा का छह बार प्रतिनिधित्व कर चुके हैं तथा सातवीं बार विधायक बनने के बाद उत्तर प्रदेश के योगी मन्त्रिमण्डल में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्री हैं।
________
1. डॉ. राजबली पाण्डेय : गोरखपुर जनपद और उसकी क्षत्रिय जातियों का इतिहास : प्रकाशक - ठाकुर महातम राव ओमप्रकाश, रेती चौक, गोरखपुर, द्वितीय संस्करण 2015 ई., पृ. 155-156
2. (क) सुरेन्द्र सिंह : रुद्रपुर राजवंश-दर्पण : नीलकमल प्रकाशन, गोरखपुर, प्रथम संस्करण 2014 ई., पृ. 17-31
(ख) डॉ. योगेन्द्र पाल : श्रीनेत क्षत्रिय राजवंश का इतिहास : विजयबहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय की पी-एच.डी. उपाधि हेतु लिखित शोधप्रबन्ध (अप्रकाशित), पृ. 106-160
(ग) http://members.iinet.net.au/~royalty/ips/b/bansi_taluq.html
3. डॉ. राजबली पाण्डेय : गोरखपुर जनपद और उसकी क्षत्रिय जातियों का इतिहास, पृ. 244 
4. डॉ. राजबली पाण्डेय : उपर्युक्त, पृ. 246
 

सोमवार, 24 जनवरी 2022

मुस्लिम आक्रमण और राजपूत....

ध्यान से देखो इस मानचित्र को, लाल घेरे में सऊदी अरब का क्षेत्र हैं,जहां इस्लाम का उदय हुआ, और इस हरे क्षेत्र को देखो, जो इस्लामिक देश हैं, आप चित्र में देख सकते हैं, कि बायीं तरफ के सभी देश इस्लामिक हो गए और दायीं तरफ का देश भारत इस्लामिकरण से बचा रहा.

अब बड़ा सवाल ?  सिर्फ 90 साल में 45 देशों का इस्लामिकरण करने वाली इस्लाम की तलवार, भारत आकर क्यों दम तोड़ गयी ?

मौहम्मद साहब की मृत्यु के एक दशक के भीतर ही अरब हमलावरो ने तलवार के दम पर ईरान, ईराक, सीरिया, मिस्र और पुरे मध्य पूर्व एशिया का इस्लामीकरण कर दिया और जीतते हुए वो स्पेन तक जा पहुंचे,

आज से करीब 1400 साल पहले जब मक्का से इंसानी खून की प्यासी इस्लाम की तलवार लपलपाते हुए निकली तो …
एक झटके में ही ईरान..इराक सीरिया ..मिश्र ..दमिश्क ..अफगानिस्तान, कतर .. बलूचिस्तान से ले कर मंगोलिया और रूस तक ध्वस्त होते चले गए ..!

और ये बात बिल्कुल सही भी साबित होती है कि जब इन #
मुस्लिम आक्रमणकारियों ने सिर्फ 90 वर्षों में विश्व के 40 से ज्यादा देशों पर पूरा कब्जा कर लिया था . और उसके बाद जब वो सिंध के रास्ते भारत की तरफ बढ़े तो अगले 500 साल तक वो भारत मे घुस नही पाए और जब घुसे भी तो भी अंत समय तक उन्हें क्षत्रियों (राजपूतों)  के विरोध का सामना करना पड़ा . और इसका फल ये है रहा कि 1400 वर्ष बाद भी 1947 के समय में भी भारत मे 85% हिन्दू आबादी थी..

इस्लाम के प्रवेश के समय पूरे विश्व मे स्थानीय धर्मों परम्पराओं का लोप हो गया । शान से इस्लाम का झंडा आसमान चूमता हुआ अफगानिस्तान होते हुए सिंध के रास्ते हिंदुस्तान पहुंचा ..!

पर यहां पहुंचते ही इस्लाम की लगाम आगे बढ़ के क्षत्रियों ने थाम ली ..। भीषण रक्तपात हुआ ..! 800 साल तक क्षत्रिय राजपूत  राजवंशों से ले के आम क्षत्रियों ने इस्लाम की नकेल ढीली न पड़ने दी ..!
भारत ही ऐसा अकेला देश था जिसने उनका सफल प्रतिरोध किया.

सम्राट हर्षवर्धन बैस (राजपूत)ब की मृत्यु के बाद से ही अरब हमलावर भारत आने लगे थे,
640 ईसवी के आसपास पहली बार खलीफा के आदेश पर ठाणे , भरूच और देवल में उनकी टुकड़ियां आई पर विफल रही।
तब से लेकर सन् 1192 तक भारत के वीरों ने इस्लामिक हमलावरो का लगातार 500 वर्ष से अधिक समय तक सफलतापूर्वक प्रतिरोध किया।
वीर बप्पा रावल, नागभट्ट परिहार , नागवंशी कर्कोटक ललितादित्य आदि राजपूत राजाओं ने अरबों को दूर तक मार लगाई।इस 500 -600 साल के कड़े संघर्ष को इतिहासकारों ने राजपूत काल भी कहा है .

बाद में तुर्को के समय आपसी मतभेदों के कारण भारत में इस्लामिक सत्ता स्थापित तो हुई मगर वो निरन्तर प्रतिरोध के कारण अंग्रेजो के आने तक भारत का 10% भी इस्लामीकरण नही कर पाए थे।
इस बात को खुद मुस्लिम इतिहासकार स्वीकार करते हैं कि भारतवर्ष अकेला देश है जिसने सफलतापूर्वक अपनी संस्कृति की रक्षा की।
मौलाना “हाली” के शब्दों में इसकी पीड़ा देखिये—–
“वह दीने-हिजाज़ी का बेबाक बेड़ा,
निशां जिसका अक्साए-आलम में पहुँचा.
मजाहम हुआ कोई खतरा न जिसका,
न अम्मां में ठिठका, न कुल्जम में झिझका..
किये पै सिपर जिसने सातों समंदर
वह डूबा दहाने में गंगा के आकर”….

यानी मौलाना हाली दुःख प्रकट करते हुए कहते हैं कि इस्लाम का जहाज़ी बेड़ा जो सातों समुद्र बेरोक-टोक पार करता गया और अजेय रहा,
वह जब हिंदुस्थान पहुंचा और उसका सामना यहां के वीरो से हुआ तो वह इस्लामी बेड़ा गंगा की धारा में सदा के लिए डूब गया!!

ठीक ऐसा ही दर्द अल्लामा इकबाल की शायरी “शिकवा” में भी मिलता है।।
मुस्लिम इतिहासकार अचरज करते हैं कि जो इस्लाम का बेबाक बेड़ा जिब्राल्टर को पार करता हुआ स्पेन तक जा पहुंचा था और जिस मजहब ने अपने जन्म लेते ही 50 वर्ष के भीतर पूरे अरब, पश्चिम-मध्य एशिया और अफ्रीका के बड़े हिस्से का इस्लामीकरण तलवार के जोर पर कर दिया वो भारत मे क्यों सफल नही हो पाया ??

जौहर, शाका जैसी बलिदानी क्षत्रिय परम्पराओं ने इस देश में सनातनी संस्कृति को जीवित रखा।
मुस्लिम इतिहासकार ऐसा लिखते है कि इस्लाम द्वारा भारत विजय का प्रारंभ मुहम्मद बिन कासिम के 712 AD में सिंध पर आक्रमण से हुआ और महमूद गजनवी के आक्रमणों से स्थापित, तथा मुहम्मद गौरी के द्वारा दिल्ली के प्रथ्वीराज चौहान को 1192 A.D. में हराने से पूर्ण हुआ !

फिर दिल्ली सल्तनत के गुलाम वंश, खिलजी, तुगलक, सैयद और लोदी वंश के सुल्तान और मुग़ल बादशाह हिंदुस्तान के शासक बताये गए !
यह इतिहास का सच नहीं हैं सच यह है कि य़ह 600 वर्षोँ तक चलने वाला राजपूत मुस्लिम युद्ध था !

जिसमे अंतिम विजय मराठा साम्राज्य, राजपूत और सिख साम्राज्य के रूप में हुयी और अब सच की विवेचना के लिए इनके बारे में कुछ तथ्य !
मुहम्मद बिन कासिम 712 AD में जब वह सिंध के राजा दाहिर को हराकर आगे बढ़ा उसे गहलोत वंश के राजा कालभोज ने बुरी तरह हराकर वापस भेजा !

अब अगले 250 वर्ष तक मुस्लिम प्रयास तो बहुत हुए पर पीछे धकेल दिए गए इस बीच भारत में राजपूत राज्य ही प्रभावी रहे !
1000 AD से महमूद गजनवी के कथित सत्रह आक्रमणों में पांच हारे, और पांच मन्दिरों की लूट की,

सबसे महत्वपूर्ण सोमनाथ की लूट की दौलत भी गजनी तक वापस नहीं ले जा पाया, जिसे सिन्ध मे लूट लिया गया था वह कही भी सत्ता स्थापित नहीं कर पाया !

इसके बाद अगले 150 वर्ष तक फिर कोई मुसलमान राजपूत सत्ता को चुनौती देने को नहीं आया और भारत में राजपूत राज्य प्रभावी बने रहे !
1178 में मुहम्मद गौरी का गुजरात पर आक्रमण हुआ, चालुक्य राजा ने गौरी को बुरी तरह हराया !

1191 में गौरी ने पृथ्वीराज को हराया फिर गौरी ने पंजाब, सिंध, दिल्ली, और कन्नौज जीते !पर ये विजयें अस्थायी रहीं क्योंकि 1192 में पृथ्वीराज ने भी गौरी को मार गिराए !

उसके बाद सत्ता में आया कुतुबुद्दीन ऐबक भी 1210 में लाहौर में ही मर गया और गौरी का जीता हुआ क्षेत्र बिखर गया !

उसके बाद इल्तुतमिश ने अजमेर, रणथम्मौर, ग्वालियर कालिंजर और महोबा जीते !
मगर कुछ समय में ही कालिंजर चंदेलों ने, ग्वालियर को प्रतिहारों ने, बूंदी को चौहानो ने मालवा को परमारों ने वापस ले लिया, रणथम्मौर, मथुरा पर राजपूत कब्ज़ा कर चुके थे !
गहलोत वंशी जैत्र सिंह ने इल्तुतमिश से चित्तौड़ वापस ले लिया इस प्रकार सत्ता राजपूतों के हाथ में ही रही थी !

उसके बाद बलबन ने राज्य बिखराव और राजपूत ज्वार रोकने में असफल रहा और सल्तनत सिमटकर दिल्ली के आसपास रह गयी थी !
गुलाम वंश को हटाकर खिलजी वंश आया, इस वंश के अलाउद्दीन खिलजी ने 1298 में गुजरात और 1303 मे चित्तौड़ जीत लिया !
पर 1316 में राजपूतों ने पुनः चित्तौड़ वापस जीत लिया, रणथम्मौर में भी खिलजी को हार का मुंह देखना पड़ा था !

खिलजी के सेनापति मलिक काफूर ने देवगिरी, वारंगल, द्वारसमुद्र और मदुराई पर अभियान किया और जीता !

पर उसके वापस जाते ही इन राजाओं ने अपने को स्वतत्र घोषित कर दिया !
1316 में खिलजी के मरने के बाद उसका राज्य ध्वस्त हो गया !

इसके बाद तुगलक वंश आया 1325 में मुहम्मद तुगलक ने देवगिरी और काम्पिली राज्य पर विजय और द्वारसमुद्र और मदुराई को शासन के अन्तर्गत लाया ! राजधानी दिल्ली से हटाकर देवगिरी ले गया !

पर मेवाड़ के महाराणा हम्मीर सिंह ने मुहम्मद तुगलक को बुरी तरह हराया और कैद कर लिया था !
फिर अजमेर, रणथम्मौर और नागौर पर आधिपत्य के साथ 50 लाख रुपये देने पर छोड़ा जिससे तुगलक राज्य दिल्ली तक सीमित रह गया और 1399 में तैमूर के आक्रमण से तुगलक राज्य पूरी तरह बिखर गया !

मुहम्मद तुगलक पर विजय के उपलक्ष्य में हम्मीर ने “महाराणा“ की उपाधि धारण की !
उसके बाद महाराणा कुम्भा द्वारा गुजरात के राजा कुतुबुद्दीन और मालवा के सुल्तान पर विजय !
इन विजयों के उपलक्ष्य में चित्तौड़ गढ़ मे विजय स्तम्भ और पूरे राजस्थान में 32 किले भी बनवाये !
महाराणा संग्राम सिंह (राणा सांगा) ने मालवा के शासक को पराजित कर बंदी बनाया और छह महीने बाद छोड़ा !

1519 में इब्राहीम लोदी को हराया !
इस प्रकार महाराणा हम्मीर से राणा सांगा तक 1326 से 1527 (200 वर्ष तक) उत्तर भारत के सबसे बड़े भूभाग पर राजपूत साम्राज्य छा रहा था और इन्हें चुनौती देने वाला कोई नहीं था !
इसी बीच दक्षिण में विजय नगर साम्राज्य क्षत्रिय शक्ति के रूप में केन्द्रित हो चूका था और कृष्ण देव राय (1505-1530) के समय चरम उत्कर्ष पर था और उड़ीसा ने भी क्षत्रिय स्वातंत्र्य पा लिया था !
तुगलकों के बाद सैयद वंश 1414 से 1451 तक और लोदी वंश 1451 से 1526 तक रहा जो दिल्ली के आस पास तक ही रह गया था !
इसके बाद फिर इब्राहीम लोदी को राणा सांगा ने हराया !
प्रमुख इतिहासकार आर सी मजूमदार लिखते है कि दिल्ली सल्तनत अलाउद्दीन खिलजी राज्य के 20 साल (1300-1320)और
मुहम्मद तुगलक के 10 साल इन दो समय को छोड़कर भारत पर तुर्की का कोई साम्राज्य नहीं रहा था !
फिर मुग़ल वंश आया मुग़ल बाबर ने कुछ विजयें अपने नाम की पर कोई स्थायी साम्राज्य बनाने में असफल रहा,
उसका बेटा हुमायु भी शेरशाह से हार कर भारत से बाहर भाग गया था !
शेर शाह (1540-1545) तक रणथम्मौर और अजमेर को जीता पर कालिंजर युद्ध के दौरान उसकी मौत हो गयी और उसका राज्य अस्थायी ही रहा !
फिर एक बार राजपूत राज्य सगठित हुए और दिल्ली की गद्दी पर राजा हेम चन्द्र ने 1556 में विक्रमादित्य की उपाधि धारण की !
1556 में ही अकबर ने हेमचन्द्र (हेमू ) को हराकर मुग़ल साम्राज्य का स्थायी राज्य स्थापित किया जो 150 वर्ष तक चला जिसमे सभी दिशाओं राज्य विस्तार हुआ !
ये अधिकांश विजयें राजपूत सेनापतियों और उनकी सेनाओं द्वारा हासिल की गयीं जिनका श्रेय अकबर ने अकेले लिया !
अकबर ने इस्लामिक कट्टरता छोड़ राजपूतों की शक्ति को समझा और उन्हें सहयोगी बनाया !
जहाँगीर और शाहजहाँ के समय तक यही नीति चली, इन 100 वर्षों में मुसलमानों और राजपूत का संयुक्त और राजपूत शक्ति पर आश्रित राज्य था इस्लामी राज्य नहीं |
पूरे मुग़ल राज्य के बीच भी मेवाड़ में राजपूतों की सत्ता कायम रही !
औरंगजेब ने जैसे ही अकबर की नीतियों के विपरीत इस्लामी नीतियां लागू करनी आरम्भ की राजपूतों ने अपने को स्वतन्त्र कर लिया !
उधर शिवा जी ने मुग़ल साम्राज्य की नीव खोद दी और 1707 तक मुग़ल राज्य का समापन हो गया उसके बाद के दिल्ली के बादशाह दयनीय स्थिति में कभी राजपूतों के, कभी अंग्रेजों के आश्रित रहे !
1674 से 1818 तक मराठा साम्राज्य भारत थोड़ा छाया था,
राजस्थान में राजपूत राज्य और पंजाब में सिख साम्राज्य राज्य के रूप में विजयी हुए |
इन शक्तियों के द्वारा मुस्लिम सत्ता की पूर्ण पराजय और अंत हुआ !

इस पूरे विषम काल मे राजपूतों ने 712 ईसवी से ,बप्पा रावल के रूप से संघर्ष शुरू किया और 1000 वर्ष के लंबे संघर्ष के बाद 1600ईसवी में महाराणा प्रताप तक रक्तसंचित संघर्ष किया...1600 के बाद मराठा,सिख, व और साम्रज्यों की नींव पड़ी....जिन्होंने भी इस्लामिक शक्तियों से लोहा लिया......

इस प्रकार जिसे मुस्लिम साम्राज्य कहा जाता है वह वस्तुतः भारतीय राजाओं और मुसलमान आक्रमण कारियों के बीच एक लम्बे समय (1200 वर्ष) तक चलने वाला युद्ध था।
केवल तलवार के दम पर हम अपना धर्म बचा पाए नही तो  छेद वाली टोपी हम भी लगाकर घूमते , अतः मार्शल जातियों खासकर राजपूतों का सम्मान करिये जिनके कारण आज भी हम सभी हिन्दू हैं ।।
जय जय श्री राम 🚩🚩
#NSB