गुरुवार, 26 जून 2014

सामान नागरिक संहिता - अपेक्षाएं और आकांक्षाएं


आज की सबसे बड़ी आवशकता है विचार क्रांति ।  इसके तीन आधार हैं “व्यक्ति निर्माण -अर्थात व्यक्तित्व का परिष्कार !परिवार निर्माण -अर्थात परिवार मेंश्रेष्ठ संस्कारों का बीजारोपण !समाजऔर राष्ट्र निर्माण -अर्थात समाज को श्रेष्ठ नागरिक प्रदान करना जो अपनी प्रतिभा ,योग्यता और क्षमता का एक अंश सतत राष्ट्र के हित में समर्पित करने के लिए कृत संकल्प हो !यदि यह कार्य देश को आजादी मिलने के बाद हमारे तथा कथित उस समय के नेता अथवा शिक्षा विद जो अपने आपको प्रकांड विद्वान मानते थे ,किये होते तो आज हमारी यह दुर्दशा नहीं हुई होती !भारतीय संस्कृति से ओत प्रोत जीवन मूल्यों पर आधारित प्राचीन शिक्षाप्रणालीजिसमें शिक्षा के साथ विद्या का समन्वय होता था; को हमारे स्कूलों मेंलागू करने के बजाये लार्ड मैकाले की शिक्षा पद्धति को एक षड़यंत्र के तहत लागू किया गया और हमारे बड़े बड़े डिग्री धारीनेता मूक दर्शक बन कर रह गए और यंही से हमारा अवमूल्यन प्रारंभ हो गया !हमारा संविधान जो बना वह आधा अधूरा बना !एक तरफ तो वह समानता की बात करता है तो दूसरी तरफ आरक्षण की !मध्यकाल में जो जातिवाद ;अश्पृश्यता वर्ण विभेद उंच नीच की भावना थी उसे इस संविधान को बनाने वाले और लागू करने वालों नें और बढाया !काश !हमारा संविधान मौलिक होता जिसमे हमारे पूर्वजों की थाती होती !गीता का दर्शन ;रामायण की मर्यादा औरबुद्ध की करूणा;महावीर की शुचिता औरचाणक्य की नीति; कुछ भी तो नहीं है इस संविधान में !वसुधेव कुटुम्बकम की भावना भारतीय संस्कृति की आत्मा है यह जानते हुएभी हमारे नेताओं ने क्यों समान नागरिक संहिता को लागू करने मेंहिचकिचाया !आज के समस्त समस्याओं का मूल वर्तमान संविधान है जिसमे इंडिया दैट इज भारत कहा गया है बजरंग मुनि जी की आज की वार्ता हमारे तथा कथित हत्यारे ;भ्रष्ट; डकैत बलात्कारी आरोपी राजनेताओं को अवश्य देखना चाहिए और अपने हृदय को परिवर्तित कर ;वोट की राजनीतिको त्याग कर बाबा रामदेव और अन्ना हजारे के राष्ट्रव्यापी महाभियान में अपना योगदान देकर अपने कुकर्मो का प्रायश्चित करना चाहिए यही समय की मांग है ।




नागरिक संहिता तथा आचार संहिता बिल्कुल अलग-अलग अर्थ और प्रभाव रखते हैं। नागरिक संहिता नागरिक की होती है, राजनैतिक व्यवस्था से जुड़ी होती है, सामूहिक होती है जबकि आचार संहिता व्यकित की होती है, व्यकितगत होती है, समाज या राज्य के दबाव से मुक्त होती है। नागरिक संहिता को हर हाल में समान होना ही चाहिये दूसरी ओर आचार संहिता को समान करने का प्रयत्न घातक होता है।विवाह, खानपान, भाषा, पूजा-पद्धति, शिक्षा, स्वास्थ्य आदि आचार संहिता से जुड़े विषय हैं। कोर्इ सरकार इस संबंध में कोर्इ कानून नहीं बना सकती। सुरक्षा, न्याय, शिक्षा, स्वास्थ्य आदि में सरकारी सहायता व्यकितगत न होकर नागरिकता से जुड़े हैं। इस संबंध में सरकार कोर्इ कानून बना सकती है।
स्वतंत्रता के समय से ही आचार संहिता और नागरिक संहिता का अन्तर नहीं समझा गया और न आज तक समझा जा रहा है। आचार संहिता तथा नागरिक संहिता को एक करने के कारण समाज में अनेक समस्याएं बढ़ती गर्इं समाज टूटता गया तथा राजनेता मजबूत होते चले गये। राजनेता तो लगातार चाहता है कि समाज, धर्म, जाति, भाषा, क्षेत्रीयता, उम्र, लिंग, गरीब-अमीर, किसान, मजदूर के रूप में वर्ग विद्वेष वर्ग संघर्ष की दिशा में बढ़ता रहे तथा राजनेता बिलिलयों के बीच बन्दर बनकर सुरक्षित रहें।
भारत की राजनैतिक व्यवस्था को व्यकित, परिवार, गांव, जिला, प्रदेश, देश और विश्व के क्रम में एक दूसरे के साथ जुड़ना चाहिये था, किन्तु उसे जोड़ा गया व्यकित, जाति, वर्ण, धर्म, समाज के क्रम में। स्वाभाविक था कि उपर वाला क्रम एक दूसरे का पूरक होता तथा नीचे वाला क्रम एक दूसरे के विरूद्ध। स्वतंत्रता के तत्काल बाद अम्बेडकर जी, नेहरू जी आदि ने तो सब समझ ते हुए भी यह राह पकड़ी जिससे समाज कभी एक जुट न हो जावे किन्तु अन्य अनेक लोग नासमझी में आचार संहिता और नागरिक संहिता को एक मानने लगे। आज भी संघ परिवार के लोग समान नागरिक संहिता के नाम पर आचार संहिता के प्रश्न उठाते रहते हैं। विवाह एक हो या चार यह नागरिक संहिता का विषय न होकर आचार संहिता से संबंधित है जिसे बहुत चालाकी से नागरिक संहिता में घुसाया गया है।
आज भारत में जो भी सामाजिक समस्याएं दिख रही हैं उनका सबसे अच्छा समाधान है समान नागरिक संहिता। भारत एक सौ इक्कीस करोड़ व्यकितयों का देश होगा, न कि धर्म, जाति, भाषाओं का संघ। भारत के प्रत्येक नागरिक को समान स्वतंत्रता होगी। संविधान के प्रीएम्बुल में समता शब्द को हटाकर स्वतंत्रता कर दिया जायेगा। प्रत्येक नागरिक के अधिकार समान होंगे। न्यायालय भी कर्इ बार समान नागरिक संहिता के पक्ष में आवाज उठा चुका है। अब समाज को मिलकर इस दिशा में कदम बढ़ाना चाहिये।

2 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक बात..... हम सबको सुनागरिक बनना होगा
    अधिकार चाहिए हैं तो कर्तव्य भी निभाने होंगें

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोनिका जी आपने सत्य कथन किया है । कर्तब्य बिना अधिकार लंगड़ा है |

    उत्तर देंहटाएं