बुधवार, 17 अप्रैल 2013

!! जोधा बाई अकबर की पत्नी नहीं थी !!

मुर्ख इतिहास तो यही कहता है कि जयपुर के राजा भारमल की बेटी का विवाह मुगल शासक अकबर के साथ हुआ था किंतु सच कुछ और ही है...!
वस्तुत: न तो जोधाबाई का विवाह अकबर के साथ कराया गया था और न ही विदाई के समय जोधाबाई को दिल्ली ही भेजा गया था. अब प्रश्न उठता है कि फिर जोधाबाई के नाम पर किस युवती से अकबर का विवाह रचाया गया था ?
                अकबर का विवाह जोधाबाई के नाम पर दीवान वीरमल की बेटी पानबाई के साथ रचाया गया था. दीवान वीरमल का पिता खाजूखाँ अकबर की सेना का मुखिया था. किसी बड़ी ग़लती के कारण अकबर ने खाजूखाँ को जेल में डालकर खोड़ाबेड़ी पहना दी और फाँसी का हुक्म दिया. मौका पाकर खाजूखाँ खोड़ाबेड़ी तोड़ जेल से भाग गया और सपरिवार जयपुर आ पगड़ी धारणकर शाह बन गया. खाजूखाँ का बेटा वीरमल बड़ा ही तेज और होनहार था, सो दीवान बना लिया गया. यह भेद बहुत कम लोगों को ही ज्ञात था.! दीवान वीरमल का विवाह दीवालबाई के साथ हुआ था. पानबाई वीरमल और दीवालबाई की पुत्री थी. पानबाई और जोधाबाई हम उम्र व दिखने में दोनों एक जैसी थी. इस प्रकरण में मेड़ता के राव दूदा राजा मानसिंह के पूरे सहयोगी और परामर्शक रहे. राव दूदा के परामर्श से जोधाबाई को जोधपुर भेज दिया गया. इसके साथ हिम्मत सिंह और उसकी पत्नी मूलीबाई को जोधाबाई के धर्म के पिता-माता बनाकर भेजा गया, परन्तु भेद खुल जाने के डर से दूदा इन्हें मेड़ता ले गया, और वहाँ से ठिकानापति बनाकर कुड़की भेज दिया. जोधाबाई का नाम जगत कुंवर कर दिया गया और राव दूदा ने उससे अपने पुत्र का विवाह रचा दिया. इस प्रकार जयपुर के राजा भारमल की बेटी जोधाबाई उर्फ जगत कुंवर का विवाह तो मेड़ता के राव दूदा के बेटे रतन सिंह के साथ हुआ था. विवाह के एक वर्ष बाद जगत कुंवर ने एक बालिका को जन्म दिया. यही बालिका मीराबाई थी. इधर विवाह के बाद अकबर ने कई बार जोधाबाई (पानबाई) को कहा कि वह मानसिंह को शीघ्र दिल्ली बुला ले. पहले तो पानबाई सुनी अनसुनी करती रही परन्तु जब अकबर बहुत परेशान करने लगा तो पानबाई ने मानसिंह के पास समाचार भेजा कि वें शीघ्र दिल्ली चले आये नहीं तो वह सारा भेद खोल देगी. ऐसी स्थिति में मानसिंह क्या करते, उन्हें न चाहते हुए भी मजबूर होकर दिल्ली जाना पड़ा. अकबर व पानबाई उर्फ जोधाबाई दम्पति की संतान सलीम हुए, जिसे इतिहास जहाँगीर के नाम से जनता है ! 

========================================================================

यह  जानकारी एक ब्लॉग से लिया है !


किसकी पत्नी थी जोधाबाई, अकबर या सलीम की  ??
Posted on March 16, 2013   

जयपुर। जोधाबाई और भारत के मुगल शासक अकबर की प्रेमकथा देश की सबसे बड़ी प्रेम कहानियों में गिनी जाती है लेकिन ये दोनों पति-पत्नी तो क्या प्रेमी तक नहीं थी। दरअसल इतिहासकारों और कुछ गाइड्स की गलतफहमी की वजह से अकबर का नाम उन्हीं की बहु जोधाबाई के साथ जोड़ दिया गया। दरअसल जोधाबाई उनके बेटे सलीम उर्फ जहांगीर की पत्नी थी, लेकिन पिछली एक सदी में टूरिस्ट गाइड्स की वजह से उनका नाम अकबर के साथ जोड़ दिया गया। न तो जोधाबाई का विवाह अकबर के साथ हुआ था और न ही विदाई के समय जोधाबाई को दिल्ली भेजा गया था। आखिरकार प्रश्न यह उठता है कि फिर अकबर का विवाह किससे रचाया गया था? किससे हुई थी अकबर की शादी: राजस्थान के इतिहासकारों का कहना है कि आमेर (जयपुर) के कछवाहा राजपूत, राजा भारमल की बेटी हरका उर्फ हरकू बाई से अकबर की शादी हुई थी। देश की सत्ता पर मुगलों के काबिज होने के करीब छह साल बाद यानी 1562 में अकबर एक बार अपने लाव-लश्कर के साथ अजमेर स्थित दरगाह शरीफ से लौट रहे थे। रास्ते में उसकी मुलाकात राजा भारमल से हुई। भारमल ने उनसे शिकायत की, मेवात का मुगल हाकिम (गर्वनर) उन्हें आए दिन परेशान करता रहता है। उनसे मनमाना चौथ(कर) वसूलता है। अकबर ने रखी दो शर्तें: कहते हैं अकबर ने भारमल को इससे मुक्ति दिलाने के लिए दो शर्तें रखीं। पहली, राजा भारमल स्वयं उनके पास आकर मिन्नत करें यानी नतमस्तक हो। दूसरा वे अपनी बेटी हरका की शादी अकबर से कर दें। उस समय अकबर की उम्र महज बीस साल थी। कुछ इतिहासकार ऐसा भी बताते हैं कि अकबर की हरका से पहले मुलाकात हो चुकी थी और उसकी खूबसूरती का कायल होकर दिल दे बैठा था। कर से राहत पाने और अपना राजपाट ठीक से चलाने के लिए भारमल ने अपनी बेटी हरका की शादी अकबर से करवा दी। हालांकि हरका से शादी के बाद अकबर ने कई और राजपूत राजकुमारियों से शादी रचाई। बीकानेर के राजा की बेटी, जोधपुर की राजकुमारी से, रोहिल्ला राजकुमारी रुकमावती से भी।सलीम की पत्नी का नाम था जोधाबाई: राजपूत घराने में शादी रचाने की परंपरा अकबर के बेटे सलीम उर्फ जहांगीर ने भी जारी रखी। खुद अकबर ने ही अपने बेटे सलीम की शादी जोधपुर के राजघराने की बेटी जगत गोसाई से बड़ी धूम-धाम से कराई थी। जोधपुर की राजकुमारी होने की वजह से उनका नाम जोधाबाई रखा गया और यह काफी प्रचलित हुआ। जोधाबाई जनाना ड्योढ़ी में काफी प्रभावशाली रही और उनके नाम पर जनाना ड्योढ़ी का नाम जोधा महल रखा गया। ऐसा नहीं है कि हिंदुस्तान में अकबर पहला मुस्लिम राजा था जिसने हिंदु लड़कियों से शादी रचाई थी। उससे पहले अलाउद्दीन खिलजी, दक्षिण के बाहमनी राजा फिरोज शाह, गुजरात के मुहम्मद शाह सहित कई मुस्लिम राजाओं ने हिंदु रानियों से विवाह किया था। लेकिन अकबर ने हिंदु (खासतौर से राजपूत) राजघरानों में शादी को अपनी ‘राज-नीतिÓ बनाया था।जोधा महल से शुरू हुई गलतफहमी: जानकारों का मानना है कि इस गड़बड़ झाले के पीछे फतेहपुर सीकरी के गाइड जिम्मेदार हैं। दरअसल फतेहपुर सीकरी (आगरा के करीब वो शहर जो कभी अकबर की राजधानी हुआ करता था) में अकबर का किला है। इस किले का एक हिस्सा जोधा महल के नाम से जाना जाता है। माना जाता है कि इस महल में मुगल राजाओं की हिंदु रानियां रहा करती थीं। जहांगीर की पत्नी जोधा भी इसी महल में रहती थी और उन्हीं के नाम पर इस महल का नाम जोधा महल पड़ गया। फिर क्या था यहां के गाइड्स ने जोधा को अकबर की पत्नी बताना शुरू कर दिया।अकबर के साथ जोधा का नाम जोडऩे में फिल्मों की भी रही भूमिका: जोधा अकबर का नाम जोडऩे में फिल्मों की भी भूमिका रही। मुगले आजम फिल्म में मुगल राजा अकबर की पत्नी का नाम जोधाबाई बताया गया है। इसके बाद से जन मानस में जोधा-अकबर एक जोड़ी के रूप में प्रचलित हुए। 2008 में आशुतोष गोवारीकर ने जोधा अकबर फिल्म बनाई। जिसमें जोधा अकबर की प्रेम कथा को दर्शाया गया। इस फिल्म का राजस्थान में काफी विरोध हुआ। राजपूत इतिहासकारों का कहना था कि आमेर के राजा भारमल की बेटी का नाम हरका था न कि जोधा। ऐसे में अपनी ही पुत्रवधु के साथ नाम जोड़कर फिल्म बनाना पूरी तरह गलत है। जयपुर व जोधपुर में इस फिल्म के विरोध में कई प्रदर्शन भी हुए।क्या जोधाबाई ही थी पानबाई: जोधाबाई के बारे में एक और कहानी प्रचलित है। अकबर का विवाह दीवान वीरमल की बेटी पानबाई के साथ रचाया गया था। दीवान वीरमल का पिता खाजू खां अकबर की सेना का मुखिया था। किसी बड़ी गलती के कारण अकबर ने खाजू खां को जेल में डालकर खोड़ा बेड़ी पहना दी और फांसी का हुक्म दिया। मौका पाकर खाजू खां खोड़ा बेड़ी तोड़ जेल से भाग गया और सपरिवार जयपुर आ पगड़ी धारणकर शाह बन गया। खाजू खां का बेटा वीरमल बड़ा ही तेज और होनहार था, सो दीवान बना लिया गया। यह भेद बहुत कम लोगों को ही ज्ञात था।

दीवान वीरमल की एक बेटी थी पानबाई। जोधाबाई और पानबाई हमउम्र थी और दिखने में भी एक जैसी ही थीं। मेड़ता के राव दूदा राजा मानसिंह के सहयोगी और परामर्शक रहे। राव दूदा के परामर्श से पानबाई को जोधपुर भेज दिया गया। इसके साथ हिम्मत सिंह और उसकी पत्नी मूलीबाई को जोधाबाई के धर्म के पिता-माता बनाकर भेजा गया। इधर, जोधाबाई का नाम जगत कुंवर कर दिया गया और राव दूदा ने उससे अपने पुत्र का विवाह रचा दिया। इस प्रकार जोधाबाई उर्फ जगत कुंवर का विवाह तो मेड़ता के राव दूदा के बेटे रतन सिंह के साथ हो गया। उधर, पानबाई उर्फ जोधाबाई का विवाह अकबर के साथ कर दिया गया। अकबर व पानबाई उर्फ जोधाबाई दंपति की संतान सलीम हुए, जिसे इतिहास जहांगीर के नाम से जनता है।साम्राज्य विस्तार के लिए अपनाई शादी की राजनीति: अकबर शादियों के कारण एक बड़े साम्राज्य को एक सूत्र में बांधने में कामयाब हो पाया। अकबर ने हिंदु (खासतौर से राजपूत) राजघराने में शादी को अपनी ‘राज-नीतिÓ बनाया था। इन शादियों से अकबर एक बड़े साम्राज्य को एक सूत्र में बांधने में कामयाब हो पाया। इन शादियों से अकबर एक बड़े साम्राज्य को एक सूत्र में बांधने में कामयाब हो पाया। शादी करने से एक तो इन राजपूत राजाओं से रिश्ते बन जाते थे। यानी उनके विद्रोह की संभावना लगभग ना के बराबर हो जाती थी। राजस्थान के छोटे-छोटे राजपूत राजा दिल्ली या आगरा के उन राजाओं को मुंह तोड़ जवाब देते थे जो उनकी सरजमीं की तरफ आंख उठाकर देखने की जुर्रत करते थे। दूसरा ये कि राजपूत अपनी वफादारी के लिए जाने जाते थे। आड़े वक्त में वहीं अकबर का साथ देते थे।पिता ने दिया हिंदुस्तान पर राज करने का मूल मंत्र: मरते समय अकबर के अब्बा, हुमायूं ने उसे हिंदुस्तान में राज करने का मूल-मंत्र दिया था। उसने अकबर को सीख दी थी कि,”राजपूत कौम का हमेशा ध्यान रखना, क्योंकि ना तो वे (राजपूत) कभी कानून तोड़ते हैं और ना ही कभी आज्ञा का उल्लंघन करते है। वे तो सिर्फ आज्ञा का पालन करते है और अपना (वफादारी का) फर्ज निभाते हैं। “गुजरात को कूच करते वक्त तो अकबर ने आमेर के राजा मान सिंह को ही आगरा (सत्ता का केंद्र बिंदु) की गद्दी का रखवाला घोषित कर दिया था। यहां तक की मानसिंह को और उनके परिवार के दूसरे सदस्यों को हरम (राजघराने में रानियों व अन्य महिलाओं के रहने की जगह) की भी जिम्मेदारी सौंपी गई थी। जो कभी भी किसी मर्द के हवाले नहीं की जाती थी। दूर-दराज के कई विद्रोह कुचलने में भी राजपूत राजाओं ने अहम भूमिका निभाई थी।अकबर करते थे महिलाओं का सम्मान: भारतीय इतिहास में सम्राट अशोक को छोड़कर शायद ही कोई ऐसा राजा होगा जो किसी भी मायने में अकबर का मुकाबला कर सकता है। अकबर में ही हिंदुस्तान को एक धागे में पिरोकर रखने की क्षमता थी। अकबर ने कुछ ऐसे कदम उठाए जो आनी वाली पीढ़ी, राजाओं और व्यवस्था के लिए मील के पत्थर साबित हुए। जैसे धर्मनिरपेक्षता, महिलाओं को बराबरी का अधिकार, उसकी प्रशासनिक व्यवस्था, मनसबदारी, भूमि सुधार के लिए पहल की। अकबर को करीब से पढऩे और समझने वाले लोग उसे दैवीय शक्ति से परिपूर्ण मानते हैं। ये बात अकबर के नवरत्न या दरबारी नहीं बल्कि आज के जमाने के इतिहासकार तक मानते हैं। अकबर पर लिखी उनकी किताबों को ‘आईन-ए-अकबरÓ से किसी भी मायने में कम नहीं समझा जाता है।

3 टिप्‍पणियां:

  1. एक मत के अनुसार ------- इस सच को हमेशा दबाया गया और कुछ अन्ज्रेज इतिहासकार ने हमेशा राजपूत को नीचा दखाने क कोशश काल्पनिक ऐतिहासिक तथ्यों का सहारा लिया . .. हमारे गौरवमयी इतिहास को कलंकिते करने का भरसक प्रयास किया गया गया लेकिन " सच को कभी आंच नहीं " .... सूय-वंश का 240वाँ औरश्री राम जी का 180 वाँ वंशधर 240 . राजा उदयकण----- (1366-1388) { राजा उदयकण जी का ववाह ( खंडेला के चौहान राजकुमार जसका नारयल युवराज बरिसंह जी के िलए आया था उसके साथ वयं युवराज ने करवा दया और चौहान क शत के मुताबत आमेर राय छोड़ दया | इसके बाद वहा (आमेर ) म उनके छोटे भाई राजा नरिसंह देव 1388 म नाबािलग ह ग पर बठाये गए , किन्तु उनके राव बरिसंह जी के पु राव मेराज जी को मोजमाबाद का राय दया ) हुआ } 241. राव बरिसंह देव, मोजमाबाद (Mozamabad) नका उप कबीले के पूवज थे , अलवर, Uniara, Lawa JAWALI, और BASETH, आद के शासक 242. राव मेराज देव जी,. 243. राव न देव जी , ( नका के संथापक ) 244. राव दासाजी , (दसावत खांप के मूल पूवज ) राव दासजी ने अपने पताजी और दादाजी के साथ आमेर राय के ारा अभता के यवहार के कारण आंबेर को अपने ४ भाईय के साथ िमलकर छन िलया था और पंच भाईय ने अपना पचरंगा वज बना कर फहरा दया .. महाराणा कुंभा के बच बचाव के बाद संिध हुयी और लावा, लदाना का के जागीर दए गए नतु , के आमेर के राजा पृवी राज ने राव दासाजी को धोखे से जहर दे दया जससे उनक मौत आमेर म ह होगई थी | 245. राव चंदन दासजी ,दासा जी के उरािधकार हुए और उनके दोन बेटे लदाना और लावा के क राजा हुए | 246. राव करम चदजी , मोज़माबाद का राय लेने म सफल हुए | 1525 में उहने आमेर ग पर फर एक बर आमण कर हिथयाने का एक प्रयास किया था लेकन उनकी भी ह्त्या धोखे से करवाई गयी थी | इस करण के बाद आमेर के कछवाहा नरेश और राव नाजी के वंशजो म गृह युद्ध हो गया इस युद्ध और नाजी के वंशजो को दबाने के लिए राजा भारमल ने अकबर से संधि कर ली ( बस इसी संधि के मुताबक भारमल के बेटे भगवानदास और उसके बाद पोता मान सिंह जी अकबर के सेनापित होगये , न की कोई वैवाहक सबध स्थापित करने की संधि हुई जैसा की काल्पनिक कहानीलिखने वाले कुछ संकीर्ण मानिसक रोगी इतिहासकार बताते है ) और अपने धर्म को निभाने के मानसिंह जी को महाराणा प्रताप जी के खिलाफ अकबर की सेना का सेनापित बनाना पड़ा ... यह एक राजपूती धर्म है जिस कारन अपने वचन का पालन करना... नोट - जोधाबाई आमेर के राजा भारमल की पुत्री ( जो जोधपुर क राजकुमार थी ) के साथ आई एक दासी की पुत्री थी जो राजा भारमल के ववाह के समय दहेज़ में अपनी माता ( जो जोधपुर क राजकुमार क दासी थी ) के साथ आई थी , जिसे आमेर के राजा भारमल जी ने अकबर के साथ विवाह करवाया था ! वह एक परिसयन यानी पारसी की लड़की थी ! उसका जीवन बेकार न हो इस कारन राजा भारमल ने उसका कन्यादान किया था इस नाते वह उनकी धर्म पुत्री थी ,, न क वह कोई कछवाहा राजकुमारी नहीं थी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी जानकारी सार्थक ओर सत्ये है अग्रेजों ने राजपूत इतिहास को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत किया है

    उत्तर देंहटाएं