मंगलवार, 22 जनवरी 2013

!! भगवा आतंकवाद ??

जिस तरह से कांग्रेश पुरे हिन्दू समुदाय को "भगवा आतंकवाद " कह रही है ..उससे तो यही लगता है की आगे आने वाले समय हिन्दुओ के लिए कितना कठिन होगा ...इसके पहले भी हिन्दू ..सदियों से सोया हुआ था ..परिणाम क्या निकला ..सनातन सिमटते -सिमटते ...आज सिर्फ भारत और नेपाल में .रह गया ..चलो उस समय की बात को हम नजरअंदाज करते है क्योकि उस समय पर तलवार का जोर -जबरजस्ती का जमाना था ..हम जान की भय के कारण ज्यादा बिरोध नहीं कर पाए ....पर अब तो लोकतंत्र है ..अब तो जागो .....नहीं तो ये कांग्रेसी इटालियन क्रिश्चिन मेम के साथ मिलकर सभी को ...इसाइयत ....और मुस्लिम वोट के लालच में इस्लामिक बना देगी और हम इसी तरह से मुह तकते रहेगे एक दुसरे का ..अभी भी समय है ..एज जुट हो जाओ ..नहीं तो अगले १०० साल में अल्प्संखयक की श्रेणी में आ जाओगे ..सुधर जाओ भाइयो ..समहल जाओ भाइयो ......हिन्दुओ को आतंकी बना रहे है ये कांग्रेश वोट के लालच में ..क्या अप अपना वोट इसी तरह से कांग्रेश को देते रहेगे ? सोचिये ..अभी भी वक्त है ..सम्हल जाए ...... ..और खुल कर ..RSS और बीजेपी का साथ दे ..नहीं तो बाद... में आपको सिर्फ पस्याताप करना पडेगा .......
हमारे देश की आबादी मेँ 80% लोग अपने को हिँदू कहते है और कुछ हिँदू विरोधी या यू कहे सेकुलरी लेबल माथे पे लगाये हिदूत्तव की बाते करते है लेकिन अगर मूंल्याकन करे तो हम हिँदुत्तव पर खरे नही उतरेगे क्या तिलग लगाने मात्र से अपने को हिँदू मान ले या फिर मंदिर मे जा कर दान देकर या अपना रौब दिखा कर अपने को हिँदू कहे जय श्री राम के ओजपूर्ण नारे लगा कर हुड़दंग करना हि ......हिँदुत्तव है आज अगर हम अपने को हिँदु कह रहे है वह झूठ है क्यो की हिँदू की परिभाष संस्कार हम तो भूल ही.... चुके है साथ ही हमारी आने वाली पीढी अपने को हिँदू कहलाने मे शर्म महसूस करे तो आप किसे दोषी मानेगे ये एक गंभीर समस्या है इसलिये एक अंखड हिँदु राष्ट्र की आवशकता है लेकिन कुछ सत्ता लोलुपता के चलते इस मुद्दे पर जबान नही खोलते और ना हि.... कोई सामाजिक संघठन कोई ठोस कदम उठा रहा है ....मुझे दुख इस बात का है हम ना वो संस्कार अपने युवाओ को दे नही पा रहै जो हमे वेदो से मिले है हमने वेदो को एक किताब भर मान लिया है क्या हम एसा कर के हिदुत्तव को ....गर्त की और ले जा रहे है आंडबरो से घिरा हिँदू सिर्फ अपना हि हित साधने मे लगा है जातिवाद और रूड़ीवादी परपरांओ मे उलझ कर हिँदु एकता को कमजोर कर रहा है आज आधुनिकता की आड़ मे अपने विचार से विमुख हम केवल अपनी संस्कृति का..... मजाक उड़ाने मे मस्त है मै उन सेकुलरो को आह्वान करता .....हू जाग जाओ और नहि तो हमे फिर को ई गजनी या अंग्रेज गुलाम बना कर भारत की पावन भूमि को इंगलिस्तान या को ई पाक्सितान बना डालेगे अगर सम्मान से जीना है तो वेदो और भारतिय सनातन धव्जा थाम कर आगे आओ भारत माता बुला रही है ..................
 जय भारत जय सनातन तुझको मेरा प्रणाम एक हो लक्ष्य एक हो हमारा ध्यान ना कुरूतियो का दल दल हो ना हो हम धर्मभीरु ना कोई मिथक आंडम्बर हो संस्कार और संयम केभूषण जातिप्रथा का हो दूर कुपोषण एक मानवता चिर परिचित हो तृष्णा मिटे हर मातृ भूमि की हरिता ... ओर सिँचित हो लज्जा हो नारी मे इतनी शोशित समाज ना कर पाये वीर प्रसूता बन आज तू महापुरूष को तु फिर जाये अपने अपने पथ चुन लेना जीवन का समय अब शेष नही सियार शासन आ गया सत्य का परिवेश नही विनती है कर्णधार देश के तुम ना मुह फेर लेना देशद्रोहियो के प्राण लेना देश की आन मे प्राण देना ....जय भारतजय जय श्री राम .......जय जय श्री राम .......जय जय श्री राम .......जय जय श्री राम .......जय जय श्री राम .......जय जय श्री राम ......

2 टिप्‍पणियां:

  1. आतंक का विरोद्ध करना चाहिए हम सब को...चाहे किसी की ओर से हो...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी आपसे सहमत हु आतंक का बिरोध करना चाहिए ..क्योकि आतंक सिर्फ आतंक होता है ..पर इस तरह से एक ही समुदाय को या एक ही समुदाय के रंग को कोई सरकार का जिम्मेदार मंत्री इस तरह से बयां दे क्या ये जायज है ? आप कल्पना करे ..यदि मैं कह दू की .."हरवा आतकवाद "(हरवा =हरे रंग ) का तो आपका या मुस्लिम समुदाय की क्या प्रतिक्रया होगी ?

    उत्तर देंहटाएं